Tuesday, June 08, 2010

हर शोक झूठा

हर कष्ट अब स्वीकार है
जैसे मिली कोई खुशी
कौन अपना है यहां
किससे कहें हैं क्यों दुखी

वेदना के कंटकों को
यूं ही अब सहना पडेगा
आप ही अब दर्द अपना
विष घूंट सा पीना पडेगा

मैं समझता था जिसे
है प्यार का बंधन अनूठा
था निमिष केवल दिखावा
हर खुशी हर शोक झूठा

3 comments:

  1. आईये जानें ... सफ़लता का मूल मंत्र।

    आचार्य जी

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब, लाजबाब !

    ReplyDelete